कमल ने कभी नहीं सोचा था कि  एक दिन उन्हें दुनिया के ऐसे स्कूल में दाखिला मिल जाएगा, जहां आज तक कोई भारतीय नहीं पहुंच सका. कमल को इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन में दाखिला मिला. यहां पर उन्हें 1 साल का प्रशिक्षण दिया जाएगा. इसको पूरा करने के बाद वह प्रोफेशनली बैली डांसर बन जाएंगे. यह ऐसा स्कूल है जहां आज तक कोई भारतीय नहीं पहुंच सका. कमल के पिता ई रिक्शा चलाते हैं और इसके अलावा वह चारपाई और पलंग बनाने का काम भी करते हैं.

 

कीटो डॉट ओआरजी के माध्यम से फंड इकट्ठा करते थे

कमल इंग्लिश बैले स्कूल लंदन जाने के लिए कीटो डॉट ओआरजी के माध्यम से फंड इकट्ठा करते रहे. धीरे-धीरे उन्होंने सोलह लाख रुपए से ज्यादा फंड इकट्ठा कर लिया है . कमल ने बताया कि, ” 4 साल पहले मैंने एक फिल्म any body can dance देखी थी. इस फिल्म में मैंने फर्नांडो गुलेरियो को डांस सिखाते हुए और कोरियोग्राफ करते हुए देखा था. मुझे यह फॉर्म बिल्कुल अलग लगा क्योंकि हमेशा मैंने भांगड़ा और हिप हॉप देखा था, लेकिन मुझे बेले डांस ने बहुत ज्यादा प्रभावित किया. मैंने इस डांस के बारे में गूगल पर भी सर्च किया, साथ ही साथ मैंने फर्नांडो गुलेरियो के बारे में सारी जानकारी इकट्ठा की. मुझे पता चला कि फ्री ट्रायल की क्लास चल रही है. क्लास खत्म होने के बाद फर्नांडो गुलेरियो भी मेरी डांस से बहुत ज्यादा प्रभावित हुए थे”.

फर्नांडो गुलेरियो ने की तारीफ

फर्नांडो गुलेरियो के मुताबिक, ” पहले दिन ही मैं समझ गया था कि, कमल में कुछ खास फैक्ट है. उसने अपने स्कूल से मुझे हैरान कर दिया. मैं उसके परफारमेंस से ही जान गया था कि, वह बहुत ही बेहतरीन प्रोफेशनल डांसर बनेगा”. कमल ने उन्हें बताया था कि, उनके पिता रिक्शा चलाते हैं इसके अलावा वह आगे फीस देने के लिए भी सक्षम नहीं हैं.

कमल ने बताया कि, ” उन्होंने मुझे स्कॉलरशिप देने की बात कही थी,. उन्होंने मुझे बताया कि, मैं इंटरनेशनल डांसर बन सकता हूं. उन्होंने मेरे पिताजी से मिलने की भी इच्छा जताई थी. उन्होंने मेरे पिताजी को इस बारे में सारी जानकारी दी. मेरे पिताजी ने कहा कि, बेटा 12वीं क्लास पास कर ले उसके बाद वह अपने फैशन को पूरा करने के लिए बिल्कुल स्वतंत्र है”.

 

 

कोरोना वायरस की वजह से नहीं जा सके रूस

कमल ने बताया कि, ”उन्होंने साल 2019 में बैले डांस के लिए रूस के वानागोवा बेले एकेडमी में दाखिले के लिए एक वीडियो भेजा था. वहां पर उनका चयन हो गया 1 महीने की ट्रेनिंग के बाद मुख्य परफॉर्मेंस में उनको सबसे अहम किरदार दिया गया था. इसके बाद उनको समर स्कॉलरशिप भी दी गई. कोरोना वायरस की वजह से वह वहां जा ही नहीं सके”.

इंग्लिश बैले स्कूल में मिल गया दाखिला

कमल ने कई जगहों पर अपने वीडियो भेजें. इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल लंदन से उन्हें बुलावा आया कि स्कूल के निदेशक विवियाने दुरांते ने आपकी वीडियो को बहुत पसंद किया है और वीडियो को चुन लिया है. इतना ही नहीं उन्हें बताया गया कि, वह दुनिया के 10 शीर्ष लोगों में चुन लिए गए हैं, और 19 सितंबर को लंदन जाएंगे. यह उनके लिए बहुत ही बड़ी खुशखबरी थी.